• Venkatesan R

जीवात्मा vs परमात्मा

15.5.2015

प्रश्न: जीवात्मा और परमात्मा की व्याख्या कीजिए।


उत्तर: जागरूकता आत्मा है। जब यह शरीर, मन और कर्म प्रलेखन से खुद की पहचान करता है, तो इसे जीवात्मा या अपूर्ण जागरूकता कहा जाता है। जब जागरूकता, बिना किसी चीज के खुद की पहचान किये बिना, सब कुछ निष्पादित हो जाता है, तो परमात्मा या सम्पूर्ण जागरूकता कहा जाता है।


जब जागरूकता कम होती है, तो पहचान अधिक होता है। जब जागरूकता अधिक होती है, तो पहचान कम हो जाती है। पहचान होने तक, जीवात्मा और परमात्मा की अवधारणा बनी रहेगी। जब कोई पहचान नहीं होता है, तो केवल शुद्ध जागरूकता होती है। कुछ लोग इसे आत्मा कहते हैं। कुछ लोग इसे अनात्मा (आत्मा नहीं) कहते हैं। इसे आत्मा या अनात्मा कहने की कोई आवश्यकता नहीं है। बस जागरूक रहिए।


शुभ रात्रि .. बस जागरूक रहिए ..💐


वेंकटेश - बैंगलोर

(9342209728)


यशस्वी भव

2 views0 comments

Recent Posts

See All

रिश्तों में समस्या

12.8.2015 प्रश्न: महोदय, मैं उन संबंधों के मुद्दों से बार-बार त्रस्त रहा हूं जो मेरे करियर और जीवन को प्रभावित करते हैं। मैं अक्सर खुद से सवाल करता हूं। क्या होगा अगर मेरा साथी मेरा उपयोग करता है और म

क्या कृष्ण मर चुके हैं?

11.8.2015 प्रश्न: महोदय, हमने सुना है कि कृष्ण भी मर चुके हैं। उसकी टांग पर नजर थी। महाभारत युद्ध के एक दिन बाद वह एक पेड़ के नीचे अच्छी तरह सो रहा था। बाद में, ज़ारा नामक एक शिकारी ने एक हिरण के लिए

सिद्धियों की विधि

10.8.2015 प्रश्न: महोदय, हमने सुना है कि कृष्ण एक महान योगी हैं। उसके पास हजारों चाची थीं। और वह एक साथ कई स्थानों पर दिखाई दे सकता है। इसके लिए क्या तंत्र है और मनुष्य इस तरह के महान देवता कैसे बन सक

  • telegram_PNG31
  • Facebook
  • YouTube
  • Instagram
  • Twitter
©2020  Karya Siddhi Yoga
Designed & Developed By Alentsoft